नर्मदा जयंती का गर्वित पर्व! क्या है जल समस्या का समाधान ?

Lucknow

(www.arya-tv.com)आजकल पिछले कई दिनों से नेट पर एक पोस्ट वायरल हो रही है जिसमें दक्षिण अफ्रीका के केप टाउन नामक शहर में जल समस्या के कारण शहर को वीरान घोषित करने संबंधी जानकारी दी गई है।

यदि हम आज न जागे तो आने वाला कल निश्चित रूप से अंधकारमय होने वाला है और आने वाले समय में जन्म लेने वाली संताने हमसे कई सवालिया प्रश्न खड़े करेंगीं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए नवी मुंबई कोपरखैरणे स्थित ग्रामीण आदिवासी रिसर्च एंड वैदिक इनोवेशन ट्रस्ट यानी गर्वित द्वारा जल संरक्षण संबंधी चेतावनी विभिन्न लेखों इत्यादि के माध्यम से जनमानस को जागरूकता हेतु प्रदान की जा रही है।

गर्वित का उद्देश्य है प्राचीन भारतीय ज्ञान और धरोहर को आधुनिक विज्ञान के माध्यम से जनमानस तक पहुंचाना। इन पद्धतियों को वैज्ञानिक तरीके से आगे बढ़ावा देना।

इसी संकल्प को आगे करते हुए गर्वित और कलापग्राम गुरुकुलम् मिलकर यह कार्य कर रहे हैं । सुरेला किशोर ग्राम में स्थित नर्मदा पुरम जिले में, इस वर्ष गर्वित ने जल से संबंधित “रिवर कॉलिंग रिवर” कैंपिंग के अंतर्गत नर्मदा जयंती को सहयोग किया। नर्मदा जयंती के अंतर्गत कन्याओं को भोजन भी कराया गया । सनातन ने हमेशा पंच तत्वों का आदर और सम्मान करना सिखाया है। जल को देवता मानकर उसकी पूजा की जाती है और उसको सहेज कर रखना हर धरतीवासी का कर्तव्य है। ध्यान रहे कि यह कोई दकियानूसी विचारधारा नहीं है अपितु वर्तमान में जल का आपातकाल किसी भी समय भयावाह रूप कभी भी धारण कर सकता है। आइए हम भविष्य को बचाने के लिए जल संरक्षण हेतु प्रतिज्ञाबद्ध हो जाए।