Journalism में admission लेना हो तो Lucknow के इस Media College में ही प्रवेश लें

# ## Education Lucknow
  • आर्यकुल उत्तर भारत का सर्वश्रेष्ठ मीडिया कालेज: सशक्त सिंह

Best college of journalism in Lucknow, Lucknow Institute of Journalism, Media college in Lucknow, MJMC College in Lucknow, BJMC College in Lucknow

(www.arya-tv.com)आज मीडिया संविधान के चौथे स्तम्भ के रूप में स्वतंत्र रूप से काम कर रहा है। पर कभी-कभी ऐसा भी होता है जब हमें किसी क्षेत्र में विशेषज्ञ बनने के लिए कुछ सीखने की आवश्यकता होती है। इसी आवश्यकता को पूरा करने के लिए देश-विदेश के प्राइवेट मीडिया संस्थान हमारे नवयुवकों को इस चौथे स्तम्भ के रूप में कैसे समाज की सेवा की जाए और कैसे इसे रोजगार परख बनाया जाए इस क्षेत्र में पूरी मेहनत और लगन से काम कर रहे हैं। इसी दिशा में अन्य संस्थानों की तरह उत्तर भारत में लखनऊ का आर्यकुल मीडिया संस्थान भी नये प्रशिक्षु संवाददाताओं को शिक्षा देने का कार्य कर रहा है। जहां पर मीडिया क्षेत्र में प्रिंट और इलैक्ट्रानिक दोनों क्षेत्र में पूर्ण प्रशिक्षित शिक्षकों द्वारा मीडिया शिक्षा का कार्य किया जा रहा है। इसके साथ ही फिल्म निर्माण, लघु फिल्म निर्माण, फोटो पत्रकारिता, नवसंचार माध्यम आदि के क्षेत्र में पूरी मेहनत व लगन से नवयुवकों को कुछ नया सिखाने का कार्य किया जा रहा है, जो कि अपने आप में सभी कालेजों से अलग और प्रशंसनीय है।
मीडिया शिक्षा के क्षेत्र में स्तम्भ खड़ा करने पूरे उत्तर भारत का नाम रोशन  करने वाले इस कालेज के चेयरमैन श्री सशक्त सिंह का आर्य टीवी ने एक साक्षात्कार लिया। पेश है इस साक्षात्कार के कुछ अंश

 मीडिया शिक्षा आज के परिवेश मेें क्यों जरूरी है

मीडिया संवैधानिक रूप से चौथे स्तम्भ के रूप में माना गया है इसलिए यह जरूरी है इस क्षेत्र में कार्य करने वालों को मीडिया में काम करने की सभी क्षेत्रों की जानकारी हो। तभी वह समाज के लिए कुछ अच्छा साबित हो सकता है। सबसे जरूरी बात कि आज वेब पत्रकारिता  एक नया दौर सा आ गया है जिसमें तमाम नये लोग बिना प्रशिक्षण के काम कर रहे हैं जो समाज के लिए पूरी तरह से घातक है। इस क्षेत्र में काम करने के लिए मीडिया की शिक्षा लेना और प्रशिक्षित होना दोनों बहुत जरूरी है।

  •  आप के यहां किस लेबल के कोर्सों की पढ़ाई होती है

 हमारे संस्थान में इण्टर व स्तानक के बाद दोनों लेबल के लोग इस क्षेत्र में स्नातक और परास्नातक की शिक्षा ग्रहण कर सकते हैं। जो इण्टर पास हैं वह B.A. इन JMC और जो स्नातक पास हैं व M.A. इन J.M.C. की डिग्री प्राप्त कर सकते हैं जिसमें BA JMC तीन वर्ष व MA JMC दो वर्ष की डिग्री है।

  •  प्रिंट और इलेक्ट्रानिक दोनों में कैसे प्रशिक्षण दिया जाता है विस्तार से बताइए

 प्रिंट और इलेक्ट्रानिक दोनों एक दूसरे से बिल्कुल अलग हैं प्रिंट की बात करें तो समाचार पत्र में जो कुछ होता है वह arya pravah हिन्दी दैनिक, print power अंग्रेजी दैनिक, khairiyat उर्दू दैनिक, हमारे समाचार पत्र के माध्यम से छात्र-छात्राओं को पूर्ण रिर्पाेटिंग करना, पेज डिजाइन करना, खबरों का संकलन करना, खबरों को बनाना, खबरों का सम्पादन करना, सम्पादकीय लिखना आदि के क्षेत्र में पूर्ण जानकारी इसी समाचार पत्र में दी जाती है जो अपने आप में बिल्कुल अलग है। अगर इलेक्ट्रॉनिक की बात करें तो www.arya-tv.com नाम न्यूज पोर्टल हमारे संस्थान में मीडिया के छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षित करने के लिए पांच वर्षों से चलाया जा रहा है जिसमें खबरों को लिखना, खबरों को एडिट कराना, खबरों को पोस्ट करना, खबरों में फोटो लगाना आदि के बारें में विस्तार से पढ़ाया व प्रशिक्षित किया जा रहा है, जिससे संस्थान की मीडिया शिक्षा के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ पहचान बनी हुई है। आर्य टीवी एक बड़ा मीडिया प्लेटफार्म है ​जिसकी ग्राहक संख्या प्रतिदिन की 2 लाख है।

Best college of journalism in Lucknow, Lucknow Institute of Journalism, Media college in Lucknow, MJMC College in Lucknow, BJMC College in Lucknow

  •  फोटो पत्रकारिता का क्षेत्र एकदम अलग है इस क्षेत्र में आप के यहां कैसे प्रशिक्षित किया जाता है

 फोटो पत्रकारिता में हमारे संस्थान में विशेष प्रशिक्षित शिक्षकों के द्वारा विशेष रूप से फोटो पत्रकारिता के बारे में प्रैक्टिकल करने व टूर प्रैक्टिकल करके सभी को अच्छे से अच्छा प्रशिक्षण दिया जाता है और साथ ही प्रोफेशनल ऐलबम शूटिंग के विभिन्न तौर तरीकों की जानकारी भी दी जाती है।

  • सुना है आप के यहां अत्याधुनिक स्टूडियो की सुविधा भी है जरा इसके बारे में कुछ बताइए

हाॅ यह बात बिल्कुल सही है हमारे संस्थान में एक अत्याधुनिक स्टूडियो बना हुआ है जिसमेें डिजिटल मीडिया प्रशिक्षण के लिए हाई स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी, मीडिया टीवी एवं फिल्म प्रोडेक्शन के लिए प्रोफेशनल साफ्टवेयर के साथ आधुनिक फिल्म निर्माण एवं मीडिया ब्राॅडकास्टिंग के लिए कैमरा व फोटो पत्रकारिता के लिए विभिन्न प्रकार के कैमरा के साथ उनके उपकरण भी उपलब्ध हैं जिससे छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है, जो पूरे उत्तर भारत में सबसे अलग है।

  •  अपने संस्थान की कुछ मीडिया उपलब्धियों के बारे में बताइए

 हमारे संस्थान के मीडिया छात्र-छात्राओं व शिक्षकों द्वारा सिर्फ शिक्षा का कार्य ही नहीं बल्कि सामाजिक सरोकारों के मुद्दों जैसे पर्यावरण संरक्षण, जल बचाव, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं, विभिन्न अंधविश्वास एवं स्वास्थ्य जागरूकता आदि पर जगजागरूकता फैलाने के लिए विभिन्न डाक्यूमेंट्री फिल्मों का निर्माण, नुक्कड़-नाटक आदि का निर्माण किया जा रहा है, जो हमारे मीडिया सेंटर की सर्वश्रेष्ठ उपलब्धियां हैं।

  •  प्लेसमेंट की क्या स्थिति है

 अब आप ने सबसे अच्छा प्रश्न किया,जहां तक प्लेसमेंट की बात है जो हमारे पास 5 मीडिया समूहों में प्रतिवर्ष नौकरी के अवसर उपलब्ध रहते हैं। जिसमें संवाददाता, पेज मेकर, डिजाइनर, एंकर, प्रूफ रीडिंग, इलेक्ट्रॉनिक संवाददाता, स्टूडियो इन हाउस वर्क, वीडियो एडिटर आदि के साथ बहुत सारी नौकरी की डिमांड हमेशा रहती है। पर हमारे संस्थान में अधिकतर युवा छात्र कोर्स करने के बाद नामचीन मीडिया संस्थानों में नौकरी अपनी योग्यता के आधार पर हासिल कर लेते हैं। पहले ही मैंने आप को बता दिया है कि हमारी पढ़ाई अन्य मीडिया संस्थानों से बिलकुल अलग है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *