प्रदेशीय निर्वाचन मे की गई धांधली एवं अनियमितताओं की सेवानिवृत्त जज से न्यायिक जांच कराकर प्रभावी कार्यवाही किए जाने की मांग

Lucknow

‌(www.arya-tv.com)मुख्यमंत्री का नजदीकी बताकर लोकतन्त्र की हत्या करने वाले डॉ. प्रभात कुमार के विरुद्ध उ0प्र0 भारत स्काउट और गाइड के प्रदेशीय निर्वाचन मे की गई धांधली एवं अनियमितताओं की सेवानिवृत्त जज से न्यायिक जांच कराकर प्रभावी कार्यवाही किए जाने की उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रादेशिक उपाध्यक्ष एवं प्रवक्ता डा0 आर0पी0 मिश्र एवं प्रदेशीय मंत्री डा0 आर0 के0 त्रिवेदी ने मुख्यमंत्री से मांग की है। साथ ही में संघर्ष के पहले चरण में ‘‘उत्तर प्रदेश भारत स्काउट गाइड संस्था बचाओ अभियान‘‘ के अन्तर्गत शिक्षक संघ के पदाधिकारी डा0 प्रभात कुमार के काले करनामों को उजागार करने के लिए उ0प्र0 भारत स्काउट और गाइड की की मुख्य संरक्षक महामहिम राज्यपाल, संरक्षक मा0 मुख्यमंत्री, प्रदेश के सांसदगण, प्रदेश सरकार के मंत्रीगण, विधायक गण एवं अन्य जनप्रतिनिधों से मिलकर स्काउट गाइड संस्था बचाओ का विशेष अभियान चलाएगे। उनसे स्काउट गाइड संस्था बचानें में सहयोग की अपील करेगे।

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रादेशिक उपाध्यक्ष एवं प्रवक्ता डा0 आर0पी0 मिश्र एवं प्रदेशीय मंत्री डा आर0के0 त्रिवेदी ने आज प्रेस क्लब में आयोजित पे्रस वार्ता में बताया कि स्काउट गाइड संस्था में कब्जा बनाए रखने के लिए पहले डा0 प्रभात कुमार द्वारा मनमाने तरीके से नियमावली में संशोधन करवाये गए और ऐसी व्यवस्था की गई कि जिस से डा0 प्रभात कुमार आजीवन मुख्यायुक्त बने रहे। मुख्यायुक्त के नामांकन के लिए राष्ट्रीय मुख्यालय की नियमावली में दी गई अर्हता सम्बन्धी अवधि को 05 वर्ष से घटाकर चार वर्ष कर लिया क्यो कि डा0 प्रभात कुमार निर्वाचन प्रक्रिया शुरू होने तक 05 वर्ष की निर्धारित अर्हता पूरी नही करते थे। जब शिक्षा निदेशक माध्यमिक डा0 महेन्द्र देव ने अर्हता पूरी होने के कारण मुख्यायुक्त का चुनाव लड़ने की घोषणा की तो डा0 प्रभात कुमार ने डा0 महेन्द्र देव के नामाकंन खारिज कराये जाने के लिए षडयन्त्र शुरू कर दिया। पहले डा0 प्रभात कुमार ने अपने आई0ए0एस0 का रौब दिखाकर अनेक जनपदों के जिलाधिकारियों के माध्यम से उन्ही जनपदों के मतदाताओं से अपने पक्ष में नामांकन भरा लिए जिनके द्वारा पहले ही डा0 महेन्द्र देव के पक्ष मे नामाकंन भरे जा चुके थे।

शिक्षक नेताओं ने बताया कि उ0प्र0 भारत स्काउट और गाइड को राज्य सरकार द्वारा प्रतिवर्ष 01 करोड़ रूपये का अनुदान मिलता है तथा प्रदेश के छात्रों से करोड़ो रूपये की धनराशि जमा होती है। जिसका उपयोग छात्रहित में गतिविधियों में नही किया जाता है। स्काउट गाइड एक निजी संस्था है लेकिन सरकार द्वारा अनुदान और छात्रों से ली जा रही फीस के कारण राज्य सरकार का इस पर नियंत्रण का पूरा अधिकार है।
प्रेस वार्ता में उ0प्र0 माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रादेशिक उपाध्यक्ष एवं प्रवक्ता डा0 आर0पी0 मिश्र, महामंत्री नरेन्द्र कुमार वर्मा, प्रदेशीय मंत्री डा0 आर0के0 त्रिवेदी, जिलामंत्री महेश चन्द्र, कोषाध्यक्ष विश्वजीत सिंह, आय -व्यय निरीक्षक आलोक पाठक, राज्य परिषद सदस्य डा0 पी0के0पन्त, उपाध्यक्ष आर0पी0 सिंह, संघर्ष समिति संयोजक इनायत उल्लाह खां, संयुक्त मंत्री सुमित आजाॅय दास आदि उपस्थित थे।