सचिन तेंदुलकर क्यों नहीं करते थे पहली गेंद का सामना, सौरव गांगुली ने खोला राज

Game

(www.arya-tv.com) पूर्व भारतीय कप्तान और बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली ने हाल ही में इस बात का खुलासा किया है कि सचिन तेंदुलकर क्रिकेट मैच में क्यों कभी पहली गेंद का सामना नहीं करते थे।

पूर्व भारतीय कप्तान और बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली ने हाल ही में इस बात का खुलासा किया है कि सचिन तेंदुलकर क्रिकेट मैच में क्यों कभी पहली गेंद का सामना नहीं करते थे। गांगुली ने बताया कि वह स्वयं हमेशा पहली गेंद का सामना करते थे। उस समय सचिन और सौरव दोनों ओपनिंग करते थे। गांगुली ने बताया कि वह हमेशा मुझसे स्ट्राइक लेने के लिए कहते थे। मैं सचिन से कई बार कहता कि तुम्हें पहली गेंद का सामना करना चाहिए।

सौरव गांगुली ने भारतीय टेस्ट टीम केओपनिंग बल्लेबाज मयंक अग्रवाल के साथ बातचीत में कहा, ”सचिन के पास हमेशा दो जवाब होते थे। पहला, यदि वह अच्छी फॉर्म में हैं, तो उन्हें नॉन स्ट्राइकिंग पर होना चाहिए ताकि वह बड़ी पारी खेल सकें। दूसरा यदि वह आउट ऑफ फॉर्म हैं तो उन्हें नान स्ट्राइकिंग पर होना चाहिए ताकि दबाव कम हो जाए।”

बीसीसीआई के ऑफिशियल टि्वटर हैंडल पर मयंक अग्रवाल के साथ ‘दादा ओपन विद मयंक’ शो में गांगुली ने कहा, ”यदि सचिन ने एक या दो बार कभी स्ट्राइक ली भी तो केवल उनकी वजह से।” सौरव गांगुली और सचिन तेंदुलकर ने 176 पारियों में 47.55 की औसत से 8227 रन बनाए। कोई भी दूसरी जोड़ी वनडे में 6000 रन भी पार नहीं कर सकी। वहीं, गांगुली और तेंदुलकर ने वनडे में 136 पारियों में पारी का आगाज किया, जिसमें 6609 रन बनाए। इसमें 21 शतकीय और 23 अर्धशतकीय साझेदारियां शामिल हैं।