मुख्यमंत्री ने 10 नव चयनित सहायक बोरिंग टेक्नीशियन को नियुक्ति पत्र प्रदान किए

Lucknow
 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विगत साढ़े 6 वर्षों में प्रदेश के 06 लाख से अधिक युवाओं को सरकारी नौकरी प्रदान की जा चुकी है। डिजिटल इण्डिया, पी0एम0 स्वनिधि जैसी केन्द्र तथा राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ लेते हुए युवाओं को रोजगार से जोड़ने का कार्य व्यवस्थित रूप से आगे बढ़ाया जा रहा है। प्रदेश में लाखों युवाओं को नौकरी और रोजगार की गारंटी मिली है। पी0एम0 विश्वकर्मा योजना, ओ0डी0ओ0पी0 योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना, प्रधानमंत्री युवा स्वरोजगार योजना तथा मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना जैसी अनेक योजनाओं ने करोड़ों लोगों को रोजगार के साथ जोड़ा है। प्रदेश सरकार की स्पष्ट मंशा है कि किसी भी युवा के साथ भेदभाव न हो।
मुख्यमंत्री  लोक भवन में मिशन रोजगार के अन्तर्गत निष्पक्ष एवं पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया द्वारा चयनित नमामि गंगे एवं ग्रामीण जलापूर्ति विभाग के 242 सहायक बोरिंग टेक्नीशियन के नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। यह सहायक बोरिंग टेक्नीशियन उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा चयनित किए गए हैं। मुख्यमंत्री  ने कार्यक्रम में 10 अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र वितरित किए। नव चयनित अभ्यर्थियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहा कि आज देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ0 राजेंद्र प्रसाद की पावन जयंती है। नव चयनित अभ्यर्थी प्रदेश शासन का भाग बनने जा रहे हैं। बोरिंग टेक्नीशियन के रूप में कार्य करने के लिए सभी को महत्वपूर्ण दायित्व सौंपा जा रहा है।

 मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2017 से पूर्व प्रदेश के युवाओं के सामने पहचान का संकट था। आज उत्तर प्रदेश का युवा और नागरिक देश में कहीं भी जाता है तो  उसके साथ सम्मानपूर्वक व्यवहार किया जाता है। प्रदेश आत्मनिर्भरता के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। परिश्रम हमारा सबसे बड़ा सर्टिफिकेट है। हमें ईमानदारी पूर्वक परिश्रम करते हुए प्रदेश के सर्वांगीण विकास में योगदान करना चाहिए। प्रधानमंत्री जी द्वारा बताए गए पंच प्रण पर चलकर आत्मनिर्भरता के मार्ग पर चलकर विकसित भारत की परिकल्पना हम सभी के दिमाग में होनी चाहिए। भारत विकसित तभी बनेगा जब हम गुलामी की मानसिकता से उबरेंगे, देश का प्रत्येक नागरिक अपनी विरासत पर गौरव की अनुभूति करेगा एवं एकता और एकीकरण के लिए कार्य करेगा।

कार्यक्रम को जल शक्ति मंत्री  स्वतंत्रदेव सिंह तथा जल शक्ति राज्य मंत्री रामकेश निषाद ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर मुख्य सचिव  दुर्गा शंकर मिश्र, प्रमुख सचिव नमामि गंगे तथा ग्रामीण जलापूर्ति  अनुराग श्रीवास्तव, सचिव नमामि गंगे तथा ग्रामीण जलापूर्ति डॉ0 बलकार सिंह, मुख्य अभियन्ता लघु सिंचाई विभाग  रमाकान्त तिवारी सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।