पाकिस्तान में बाढ़ के बाद इमरजेंसी:तीन महीने में 900 से ज्यादा लोगों की मौत; दूसरे देशों से मदद की गुहार

# ## International

(www.arya-tv.com)  पाकिस्तान बाढ़ और बारिश से बेहाल है। हालात इस कदर बिगड़ चुके हैं कि अब तक 900 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। सरकार ने बिगड़ते हालात को देखते हुए नेशनल इमरजेंसी घोषित कर दी है।

पाकिस्तानी अखबार ‘डॉन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, भारी बारिश के चलते आई बाढ़ से अब तक 937 लोगों की जान चली गई है। मरने वालों में 343 बच्चे भी शामिल हैं।

सिंध प्रांत में सबसे ज्यादा मौतें
नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (NDMA) की रिपोर्ट में कहा गया कि 14 जून के बाद से अब तक सबसे ज्यादा सिंध प्रांत में 306 लोगों की मौत हुई है। कराची, पंजाब, बलूचिस्तान प्रांत में हालात गंभीर बने हुए हैं। मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है। वहीं, बलूचिस्तान में 234 लोग जान गवां चुके हैं। खैबर पख्तूनख्वा में 185 और पंजाब प्रांत में 165 लोगों की मौत हुई है। गिलगित-बाल्टिस्तान में 9 लोगों की मौत हुई।

23 जिलों में हाई अलर्ट
NDMA के मुताबिक, अगस्त महीने में पाकिस्तान में 241% ज्यादा बारिश हुई। यहां एवरेज 166.8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। जबकि हर साल एवरेज 48 मिलीमीटर बारिश होती है। सिंध में 784% और बलूचिस्तान में 496% ज्यादा बारिश हुई। सिंध प्रांत के 23 जिलों में हाई अलर्ट है।

पाक आर्मी रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी
जलवायु परिवर्तन मंत्री शेरी रहमान ने बताया कि पाकिस्तान आर्मी और लोकल एडमिनिस्ट्रेशन बचाव कार्य में लगे हुए हैं। लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया जा रहा है। करीब 3 करोड़ लोग बेघर हो गए हैं। लोगों के पास खाने के लिए कुछ नहीं है। बलूचिस्तान प्रांत के एडमिनिस्ट्रेशन ने लोगों के रहने के लिए 1 लाख टेंट की मांग की है।

सरकार ने राहत कार्यों के लिए फंड देने की अपील की
पाकिस्तान सरकार बाढ़ से बने हालात को संभालने में नाकाम होती नजर आ रही है। इसके लिए सरकार ने दूसरे देशों से मदद मांगी है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार को 5.78 लाख करोड़ रुपए के रिलीफ फंड की जरूरत है। वहीं, हेल्थ सेक्टर के लिए उसे 12.9 हजार करोड़ रुपए चाहिए। बाढ़ से खेतों और फसलों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए सरकार को 9 अरब रुपए (भारतीय करेंसी में 72.08 हजार करोड़ रुपए) की जरुरत है। भारी बारिश से मशीनों को भी नुकसान हुआ है। इसकी भरपाई के लिए 4.64 अरब रुपए (37.07 हजार करोड़ रुपए) चाहिए हैं।

82 हजार घरों को नुकसान
सूचना मंत्री मरियम औरंगजेब ने बताया कि बाढ़ से 82,000 घरों को नुकसान पहुंचा है। इन्हें दोबारा बनाने के लिए 41 अरब रुपए (3.27 लाख करोड़ रुपए) की लागत आएगी। यानी हर एक घर पर 50 हजार रुपए का खर्च आएगा। भरपाई के लिए दूसरे देशों से मदद की गुहार लगाई जा रही है। उन्होंने कहा- सरकार लोगों की मदद की पूरी कोशिश कर रही है। इस मुश्किल घड़ी में हमें एक-दूसरे का साथ देने है और मदद करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *