मुख्यमंत्री ने  अटल जी की प्रतिमा के पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी

Lucknow
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि  भारत माता के महान सपूत, भारत रत्न श्रद्धेय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की पावन जयन्ती है। आज का दिवस सुशासन दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। अटल जी भारतीय राजनीति के अजातशत्रु थे। उन्होंने भारत को राजनीतिक अस्थिरता से उभारने का कार्य किया तथा देश की राजनीति में शुचिता और पारदर्शिता का एक आदर्श प्रतिमान सबके सामने रखा। अटल जी का जन्म 25 दिसम्बर, 1924 को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हुआ था। जनपद आगरा का बटेश्वर स्थान उनकी पैतृक भूमि के रूप में जाना जाता है। उत्तर प्रदेश के प्रति खास लगाव के कारण उन्होंने अपनी शिक्षा तथा कर्मभूमि के लिए उत्तर प्रदेश का चयन किया।
मुख्यमंत्री , पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न श्रद्धेय  अटल बिहारी वाजपेयी  की जयन्ती सुशासन दिवस के अवसर पर आज लोक भवन स्थित अटल जी की प्रतिमा के सम्मुख रखे उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि देने के पश्चात मीडिया प्रतिनिधियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विगत साढ़े 09 वर्षों में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत ने विकास, सुरक्षा और सुशासन के नए प्रतिमान स्थापित किये हैं। इसकी आधारशिला अटल जी ने अपने शासनकाल में रखी थी। जिन आदर्शों और मूल्यों के लिए अटल जी ने अपना जीवन समर्पित किया, प्रदेश सरकार उन मूल्यों और आदर्शों के प्रति पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि यह वर्ष अटल जी के जन्म शताब्दी वर्ष का प्रारम्भ भी है। अटल जी की स्मृतियों को जीवन्त बनाए रखने तथा समाज और राष्ट्र को नई दिशा प्रदान करने वाले उनके जीवन के प्रत्येक पहलू को प्रदर्शित करने के लिए आगामी 01 वर्ष की अवधि में अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। अटल जी की साहित्यिक रुचि व पत्रकारिता क्षेत्र में योगदान का स्मरण करने के लिए अलग-अलग प्रकार के कार्यक्रम ग्राम पंचायत से प्रदेश स्तर तक, बेसिक शिक्षा स्कूलों, विश्वविद्यालयों एवं अन्य संस्थाओं में आयोजित किए जाएंगे।
इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री  केशव प्रसाद मौर्य तथा  ब्रजेश पाठक, जल शक्ति मंत्री  स्वतंत्र देव सिंह, विधान परिषद सदस्य  भूपेन्द्र सिंह चैधरी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, मुख्य सचिव  दुर्गा शंकर मिश्र, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, गृह एवं सूचना  संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव सचिवालय प्रशासन  के0 रविन्द्र नायक, सूचना निदेशक  शिशिर एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।