कालापानी को नक्शे में शामिल करने के बाद नेपाल ने की सशस्त्र बलों की तैनाती

International

(www.arya-tv.com) भारतीय इलाकों को अपने नक्शे में शामिल करने के बाद नेपाल ने अब कालापानी के पास सशस्त्र बलों की तैनाती कर दी है। पड़ोसी देश ने कालापानी के पास चांगरू में अपनी सीमा चौकी (बीओपी) को अपग्रेड किया है और इसे स्थायी चौकी बना दिया है जहां सशस्त्र पुलिसकर्मी तैनात होंगे। एक अधिकारी ने गुरुवार को यहां जानकारी दी।

इससे पहले चांगरू सीमा चौकी पर लाठी रखने वाले पुलिसकर्मी तैनात रहते थे। यह चौकी हर साल नवंबर से मार्च तक सर्दियों के मौसम में बंद रहती है। चांगरू नेपाल के धारचूला जिले में स्थित है। नेपाली सेना प्रमुख पूर्णचंद्र थापा ने बुधवार को उन्नत सीमा चौकी का निरीक्षण किया। धारचूला के उप जिलाधिकारी ए के शुक्ला ने गुरुवार को यह जानकारी दी। शुक्ला ने कहा कि बीओपी को स्थायी बना दिया गया है और अब यह अत्यंत सर्दी के बावजूद ठंड के मौसम में बंद नहीं होगी।

उन्होंने कहा कि नेपाल सशस्त्र पुलिस बल के महानिरीक्षक शैलेंद्र खनल के साथ थापा ने चांगरू सुरक्षा चौकी का निरीक्षण किया। बीओपी को अपग्रेट करना और सेना प्रमुख के दौरे को अहम माना जा रहा है क्योंकि नेपाली संसद द्वारा भारत में स्थित लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा को नेपाली क्षेत्र में दर्शाने वाले नए नक्शे को पारित किए जाने के बाद यह उनका पहला दौरा है।

भारत के कड़े विरोध के बावजूद नेपाल की संसद ने उस नए राजनीतिक नक्शे को अपडेट करने के लिए संविधान में गुरुवार को संशोधन कर दिया, जिसमें रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण भारत के तीन क्षेत्रों को शामिल किया गया है। भारत ने नेपाल के मानचित्र में बदलाव करने और कुछ भारतीय क्षेत्रों को उसमें शामिल करने से जुड़े संविधान संशोधन विधेयक को नेपाली संसद के निचले सदन में पारित किए जाने पर शनिवार को प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि यह ”कृत्रिम विस्तार साक्ष्य और ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित नहीं है और यह मान्य नहीं है।”