डॉ. राजेश्वर सिंह ने यूपी की परिवर्तनकारी प्रगति को आंकड़ों के साथ किया रेखांकित, कहा सुदृढ़ अर्थव्यवस्था के साथ बजट और राजस्व में हुई वृद्धि

Lucknow
  • सीएम योगी की दूरदर्शी व पारदर्शी नीतियों से यूपी का हो रहा सर्वांगीण विकास : डॉ. राजेश्वर सिंह
  • सीएम योगी के नेतृत्व में बीमारू राज्य से सर्वोत्तम प्रदेश बना उत्तर प्रदेश : डॉ. राजेश्वर सिंह

लखनऊ। सरोजनीनगर के लो​कप्रिय विधायक डॉ. राजेश्वर सिंह अपनी दूरदर्शिता, ​प्रगतिशील विचारधारा और दृढ़ निश्चय के लिए विख्यात हैं तथा अपनी बेबाकी व ज्ञानवर्धक बातों के साथ सभी समसमायिक मुद्दों पर आंकड़ों के साथ चर्चा करते हैं।

रविवार को सरोजनीनगर से बीजेपी विधायक डॉ. राजेश्वर सिंह ने योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में हुई परिवर्तनकारी प्रगति की सराहना की। अपने ऑफिशियल अकाउंट एक्स पर आंकड़ों के माध्यम से विधायक ने 2016-17 से लेकर अब तक उत्तर प्रदेश में हुए बदलावों व उपलब्धियों को रेखांकित किया।

डॉ. राजेश्वर सिंह ने प्रदेश की आय वृद्धि पर प्रकाश डालते हुए बताया कि 2016-17 में राज्य की सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) लगभग 13 लाख करोड़ थी वहीं, 2023-24 में लगभग साढ़े 24 लाख करोड़ की तक पहुंच रही है। 2015-16 में प्रति व्यक्ति आय ₹43 हजार के आसपास थी, जो वर्ष 2022-23 में बढ़कर दोगुने से अधिक लगभग ₹83 हजार हो चुकी है।

विधायक ने प्रदेश के बजट में हुई बढ़ोतरी को रेखांकित किया। देश की 16% यानी 25 करोड़ की जनसंख्या उप्र में निवास करती है, प्रदेश में 2012 और 2017 के बीच औसत बजट 2 लाख 70 हजार करोड़ के आसपास था, जो आज 7 लाख करोड़ से अधिक है। मूल बजट 6 लाख 90 हजार करोड़ और 28 हजार करोड़ के अनुपूरक बजट के साथ 7 लाख 19 हजार करोड़ का अब तक का सबसे बड़ा बजट है।

डॉ. राजेश्वर सिंह ने प्रदेश की राजस्व वृद्धि को आंकड़ों के माध्यम से इंगित किया। 2016-17 में राज्य का कर राजस्व 86 हजार करोड़ था, जो 2021-22 में बढ़कर डेढ़ लाख करोड़ तक पहुंच गया। वर्ष 2016-17 में प्रदेश को स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन से लगभग 11 हजार करोड़ का राजस्व प्राप्त हुआ था, वर्ष 2023-24 यही बढ़कर 34 हजार करोड़ रुपए हो गया है।

राजस्व में हुई यूपी की उल्लेखनीय प्रगति पर भी डॉ. सिंह ने प्रकाश डाला। वैट और टैक्स के आधार पर वर्ष 2016-17 में बिक्री कर 49 हजार करोड़ था, जो आज डेढ़ लाख करोड़ पर पहुंच रहा है। राज्य उत्पाद शुल्क में वर्ष 2016-17 में कुल 14 हजार करोड़ प्राप्त हुए थे, जो आज 58 हजार करोड़ रुपए पर पहुंच रहा है। पहले परिवहन से 5 हजार करोड़ का राजस्व प्राप्त होता था वहीं अब 12 हजार करोड़ से अधिक की राशि प्राप्त हो चुकी है।

आगे डॉ. राजेश्वर सिंह ने कहा कि पहले जहां 2017 से पहले उत्तर प्रदेश की पहचान एक बीमारू राज्य की थी लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की दूरदर्शी व पारदर्शी नीतियों के परिणामस्वरूप उत्तर प्रदेश का सर्वांगीण विकास सुनिश्चित हो रहा, यूपी देश का ‘ग्रोथ इंजन’ बन रहा।

बता दें कि देश में बीते दिन आए चार राज्यों के चुनावी परिणाम में भाजपा ने तीन राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान व छत्तीसगढ़ में अपनी धाक जमाई। राजस्थान व छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाया। इन राज्यों में चुनाव का रुख बदलने में सबसे एक महत्वपूर्ण भूमिका सीएम योगी ने भी निभाई। स्टार प्रचारक के रूप में उन्होंने चुनावी राज्यों में ताबड़तोड़ रैलियां, राेड शो किए।

राज्यों में जनता के बीच उनकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनकी हर रैली-जनसभा में ताबड़तोड़ भीड़ देखने को मिलती थी। हर राज्य की जनता उनकी सुशासन और जीरो टॉलरेंस नीतियों से प्रभावित है, यह कहना गलत नहीं होगा। प्रदेश में डबल इंजन की सरकार के नेतृत्व में हो रहा अभूतपूर्व विकास ने उत्तर प्रदेश को वैश्विक मानचित्र पर एक अलग पहचान दी है।