क्या सनातन शक्तियों ने निकाला फंसे हुए श्रमजीवियों को ?

Lucknow
  • विपुल लखनवी ब्यूरो प्रमुख पश्चिमी भारत

(www.arya-tv.com)कुछ दिन पूर्व उत्तराखंड की सिलक्यारा खदान में फंसे 41 व्यक्ति आश्चर्यजनक तरीके से बाहर आ गए और किसी को भी कोई नुकसान नहीं हुआ। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो काम करने वाली कंपनी के प्रशासन से खदान के रास्ते में एक मंदिर जो कि स्थानीय बौगनाथ का मंदिर कहा जाता है उसको हटा दिया था। उसको हटाने के साथ ही दुर्घटना हो गई थी। जब विदेशी खदान के विशेषज्ञ अर्नाल्ड डिक्स आए तो उन्होंने स्थानीय लोगों से बात कर बड़े ही विश्वास के साथ बौगनाथ देव के मंदिर को पुनः स्थापित करवा दिया।

विदेशी टनल एक्सपर्ट “अर्नाल्ड डिक्स” जितने बार भी टनल के अंदर गए और बाहर निकले, उतनी बार पास वापस स्थापित पूजा स्थल के आगे घुटनों पर बैठकर हाथ जोड़े और आंख बंद करके प्रार्थना की।

इन्हीं अमेरिकी एक्सपर्ट ने आते ही टनल के मुहाने से हटाए गए पूजा स्थल को वापस रखवाया था। कहा था कि, हिमालय ने गुस्सा दिखाया है। उन्होंने मजदूरों को बंधक बनाया है। अब हिमालय ही जब चाहेगा, तब उनको छोड़ेगा।

हुआ भी ऐसा ही। अमेरिकी मशीन भी पहली बार किसी मिशन पर टूट गया और दरवाजे तक पहुंचकर भी सारे एक्सपर्ट लाचार हो गए थे।

अमेरिकी टनल विशेषज्ञ ने तो कहा था कि उन्होंने मां काली से एक डील की है। शायद अब वे उस आध्यात्म अनुभव को साझा करें। अर्नाल्ड उस छोटे से चबूतरे वाले मंदिर के में देवी, भोलेनाथ और बाबा बौगनाथ की पूजा कर बहुत देर तक वहीं बैठे रहते थे।

सबसे अजूबा तब हुआ, जब इसी पूजा स्थल के पीछे चट्टान पर पानी की धारा निकल गई। और उससे बाबा भोलेनाथ की आकृति सी बन गई। मौसम अचानक साफ हो गया। जबकि बारिश का अनुमान मौसम विभाग ने बता रखा था। उसे देखकर अर्नाल्ड ने कहा कि आज हिमालय और यहां के बाबा भोलेनाथ खुशखबरी देने वाले हैं।

एक दूसरे धर्म के प्रख्यात इंजीनियर द्वारा हिंदू धर्म की मान्यताओं को इस स्तर तक समझना और इज्जत देना काफी कुछ कह जाता है।

जहाँ विज्ञान डगमगाता है। वहीं से आस्था की शुरूआत होती है। विज्ञान और धर्म विपरीत नहीं बल्कि पूरक है।

सभी 41 लोगों की सकुशल लौटे अब सरकार से कुछ उम्मीद कि अब हर मजदूर का 1 करोड़ का दुर्घटना इंश्योरेंस कंपलसरी हो ……और दूसरा पहाड़ों के मंदिर को धार्मिक स्थल रहने दें, पर्यटन स्थल न बनाएं। प्रकृति से छेड़छाड़ कम से कम हो। और पहाड़ों के धार्मिक स्थान में रहने के होटल, घर आदि निर्माण न हों। लोग सुबह जाएं और वापस उसी दिन नीचे लौटें। बस मूलभूत सुविधा ही हो।

कुछ भी हो लेकिन सनातन प्रकृति ने बता दिया है कि वह सर्वोपरि है। वही ईश्वर है। वही शक्ति है।