भारतीय किसानों को प्रोत्साहन देने के लिए स्पाइसजेट ने लॉकडाउन सहायता की

Business
  • भारतीय किसानों को प्रोत्‍साहन देने के लिए स्‍पाइसजेट ने लॉकडाउन के दौरान रिकॉर्ड 20 लाख किग्रा झींगा और फसल पैदावार की ढुलाई की

(www.arya-tv.com)देश के सबसे बड़े एयर कार्गो ऑपरेटर स्पाइसजेट ने रिकॉर्ड मात्रा मेंताजा कृषि पैदावार और झींगे की ढुलाई कर भारतीय किसानों की बड़ी सहायता की है और सरकार के कृषिउड़ान और मरीन कृषिउड़ान पहलों में सहयोग प्रदान कर रहा है। किसानों को मदद देने के लिए और यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपूर्ति श्रृंखला बरकरार रहेऔर राष्ट्रव्यापी तालाबंदी के दौरान समय से और कुशल तरीके से किसान अपनी उपज का परिवहन और निर्यात कर सकें स्पाइसजेट ने 20 लाख किलोग्राम से अधिक ताजा पैदावार और झींगा की ढुलाई की है।

एयरलाइन ने समर्पित फ्रेटरऔर यात्री विमानों के अपने बेड़े और विभिन्न घरेलू और अंतरराष्ट्रीय गंतव्यों के लिए विशेष कार्गो उड़ानों का संचालन कर यह कार्य किया। कृषि निर्यात को बढ़ावा देने के अपने प्रयासों के क्रम में एयरलाइन ने लॉकडाउन अवधि के दौरान देश के भीतर और बाहर दोनों जगहों पर 8 मई 2020 तक 1070 टन कृषि पैदावार की ढुलाई की है। कुछ प्रमुख बाजारों में अबूधाबी, कुवैत, मस्कट, सिंगापुर, कोलकाता, कोच्चि, मुंबई व अन्य शामिल हैं।

भारत के मरीन कृषि उड़ान में अग्रणी स्पाइसजेट ने इस साल 25 फरवरी को झींगा की झुलाई के लिए समर्पित फ्रेटर फ्लाइट्स शुरू की थीं। यह एयरलाइन लॉकडाउन के दौरान 8 मई 2020 तक 950 टन झींगा की ढुलाई कर झींगा किसानों की मदद कर चुकी है। 25 फरवरी से 8 मई के बीच स्पाइसजेट ने करीब 1550 टन झींगा की ढुलाई की है। इस प्रोग्राम के तहत जिन प्रमुख बाजारों को सेवा प्रदान की गयी उनमें कोलकाता, चेन्नई, अहमदाबाद, सूरत और विशाखापत्तनम शामिल रहे। झींगा किसानों को समर्पित फ़्रेटर फ़्लाइट्स के न होने से समय से बीजों की ढुलाई न होने के चलते काफी समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता था, जिससे उन्‍हें भारी नुकसान होता।

स्पाइसजेट के चेयरमैन और मैनेजिंग डाइरेक्‍टरए अजय सिंह ने बताया कि हमारे कृषक समुदाय के लिए सबसे मुश्किल समय है। वो इस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। समय पर परिवहन सुविधाओं के अभाव में किसानों को भारी नुकसान हुआ होगा। लेकिन हमें इस बात की खुशी है कि हमारी कार्गो सेवाओं से उन्‍हें मदद मिली है। स्पाइसजेट इस महामारी के प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए सरकार के सभी प्रयासों में दृढ़ता से सहयोग करने के लिए प्रतिबद्ध है।