पेनियरबाई के अध्ययन में खुलासा, 55 प्रतिशत भारतीय नागरिक कोविड-19 जैसी … जाने क्या है पूरी खबर

Business

(www.arya-tv.com) देश में आज 80 प्रतिशत से अधिक लोगों के पास अपना एक बैंक खाता है, फिर भी निम्न आय वर्ग के 70 फीसदी से अधिक लोग ऐसे हैं, जो अपनी बचत को जमा रखने के लिए या तो नकदी या चिट फंड जैसी अनौपचारिक व्यवस्था का लाभ उठाते हैं। देश के सबसे बड़े हाइपरलोकल फिनटेक स्टार्टअप पे नियरबाई की पहली ‘इंडिया सेविंग्स बिहेवियर‘ रिपोर्ट में यह बात सामने आई है। इस प्रवृत्ति के लिए प्रमुख कारणों में चिट फंड कंपनियों के साथ एक मजबूत सामाजिक अनुबंध भी है जो इस कोष में धन का पोषण करते हैं और साथ ही जागरूकता की कमी, तकनीकी बाधाएं और औपचारिक वित्तीय प्रणालियों की पहुंच संबंधी चुनौतियों का संयुक्त प्रभाव भी है। यह प्रवृत्ति शहरी आंतरिक और ग्रामीण भारत दोनों में देखी गई।

पे नियरबाई द्वारा क्षेत्र में लोगों से विस्तृत इंटरैक्शन और डिजिटल सर्वेक्षण के माध्यम से निम्न आय वर्ग के लगभग 10,000 लोगों के राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण में ऐसे कई कारकों पर प्रकाश डाला गया है जो इस वर्ग के लोगों की बचत की आदतों को प्रभावित करते हैं। जवाब देने वाले 47 प्रतिशत लोगों ने कहा कि फाइनेंशियल ऑफरिंग का चयन करते समय दो बातों ने निर्णायक भूमिका निभाई-अवधि को लेकर लचीलापन और बचत राशि पर कोई प्रतिबंध नहीं होना। लचीलेपन की आवश्यकता तब और उजागर हुई, जब 65 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं ने कहा कि वे औपचारिक तंत्र के माध्यम से बचत करने से बचते हैं, क्योंकि उनके पास नियमित नकदी प्रवाह संभव नहीं होता। जब इस विषय पर और चर्चा की गई, तो उत्तरदाताओं ने खुलासा किया कि आय के प्रवाह में अनिश्चितता और बड़े घरेलू खर्च के कारण वे किसी भी निश्चित मूल्य के नियमित बचत उत्पाद के साथ नहीं जुड़ सकते। इस वर्ग में वर्तमान को लेकर एक मजबूत पूर्वाग्रह देखा गया और भविष्य के रिटर्न की तुलना में लिक्विडिटी की वर्तमान जरूरतों को प्राथमिकता दी गई थी।

35 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं ने कहा कि बचत करते समय उनका प्राथमिक उद्देश्य खुद को और घर को अनावश्यक खर्च करने से रोकना था। जब इस विषय पर आगे विचार किया गया, तो 65 फीसदी उत्तरदाताओं ने खुलासा किया कि वे अपने अतिरिक्त धन को जमा करना चाहते थे, ताकि वे एकमुश्त राशि एकत्र कर सकें और इस तरह अपने छोटे और मध्यम जीवन लक्ष्यों को पूरा करने में मदद जुटा सकें। जहां तक छोटे और मध्यम अवधि के लक्ष्यों का सवाल है, तो अलग-अलग लोगों और आयु समूहों के बीच इन्हें लेकर काफी अंतर था। कोई अपने लिए बाइक खरीदना चाहता है तो कोई अपने बच्चे की शिक्षा के लिए धन जुटाने का लक्ष्य रखता है। आभूषण खरीदना, जमीन खरीदना या घर बनाना अन्य लोकप्रिय जीवन लक्ष्य थे।

49 फीसदी उत्तरदाताओं ने एक ऐसे सुरक्षा जाल के बारे में भी बात की, जो उन्हें आपात स्थिति से निपटने में मदद करेगा। महामारी ने लाखों लोगों को ऐसी अराजकता की तरफ धकेल दिया है, जो नियमित वेतन भुगतान के आसपास बढ़ती बेरोजगारी दर और असुरक्षा के कारण अपने वित्तीय कल्याण को प्रभावित करते हैं। खास बात यह रही कि नागरिकों में जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता को सबने समझा है, ताकि वर्तमान कोविड – 19 जैसी स्थिति का सामना किया जा सके और वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।

अध्ययन में यह भी पता चला है कि निम्न आय वर्ग समूह ने अपने बचत उत्पाद का चयन करते समय निवेश पर प्रतिफल की बजाय लचीलापन, सुरक्षा, विश्वास और उपयोग में आसानी को प्राथमिकता दी। 40 फीसदी से अधिक लोगों ने कहा कि वे कागजी कार्यवाही और अन्य प्रक्रियाओं के कारण औपचारिक बचत उत्पाद को नहीं चुनते हैं। संरचित सेट-अप के प्रति विरक्ति, दस्तावेजों संबंधी बाधाओं, परिचालन में लगने वाला समय, प्रतीक्षा संबंधी समय आदि कारणों से भी लोग औपचारिक बचत उत्पाद से दूरी बनाए रखते हैं।

43 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं ने कहा कि संचालन संबंधी प्रक्रिया में आसानी एक महत्वपूर्ण कारक है जो यह निर्धारित करता है कि वे बचत निधि में कितनी बार पैसा लगाएंगे। उन्हें यह बहुत असुविधाजनक लगता है जब उन्हें यात्रा करने में समय बिताना पड़ता है, आवेदन पत्र भरना पड़ता है और दूसरी तमाम प्रक्रियाओं के लिए वक्त खराब करना पड़ता है और इस चक्कर में कई बार उन्हें अपने एक दिन के वेतन से भी हाथ धोना पड़ता है।

सर्वे के नतीजों पर टिप्पणी करते हुए पे नियरबाई के एमडी और सीईओ श्री आनंदकुमार बजाज ने कहा, “महामारी से हमने सबसे बड़ी सीख यह हासिल की है कि हमें अपने स्वास्थ्य और आर्थिक बुनियादी ढांचे में निवेश करने की आवश्यकता है, ताकि हम वर्तमान जैसी चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना करने के लिए बेहतर तरीके से तैयार हों सकें। जब हम अपना काम करने के लिए सरकार, नागरिक और नियामक निकायों पर भरोसा करते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि व्यक्तिगत रूप से हम अपने आसपास के लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने में अपनी भूमिका निभाएं। आर्थिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चरणों में से एक आम जनता के बीच बचत के अनुशासन का निर्माण करना है।

हम जानते हैं कि भारत का एक बड़ा हिस्सा आज अपनी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहा है, और हमारे खुले बैंकिंग मंच के माध्यम से, हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि डीबीटी फंड उचित व्यक्ति तक पहुंचें। 17,000 पिन कोड में फैले हमारे डिजिटल प्रधानों ने पिछले दो महीनों में 6,000 करोड़ रुपये से अधिक के डीबीटी फंड तक पहुंच को सक्षम करने का एक जबरदस्त काम किया है। यह एनपीसीआई के समर्थन, आरबीआई से मार्गदर्शन, डीएफएस और वित्त मंत्रालय से मिले नीति निर्देशों और सबसे महत्वपूर्ण, उन बैंकों के कारण संभव हो पाया है जो इन लाखों खातों और हमारे प्रायोजक बैंकों की मेजबानी करते हैं।