सीसीएस यूनिवर्सिटी के दो छात्र गुटों के बीच कहासुनी के बाद फायरिंग, कैंपस में मचा हड़कंप

# ## Meerut Zone

(www.arya-tv.com) चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय परिसर में सुरक्षा के नाम पर तो लाखों रुपए सालाना रुपए खर्च होते हैं. लेकिन वास्तविक सुरक्षा विश्वविद्यालय परिसर में नहीं दिखाई देती. जिसका नजारा शुक्रवार को भी देखने को मिला. दो छात्र गुटों में आपसी कहासुनी के बाद चार राउंड की फायरिंग हुई . जिससे कैंपस में दहशत का माहौल फैल गया. ऐसे में विश्वविद्यालय के छात्रों ने परिसर में हंगामा करते हुए के डॉक्टर वीरपाल सिंह को ज्ञापन सौंपा.

स्टूडेंट लीडर एडवोकेट आदेश प्रधान कहते हैं कि आए दिन यहां पर बाहरी तत्व आकर मारपीट और गोलीबारी जैसी घटनाओं को अंजाम देते हैं. लेकिन उसके बावजूद भी विश्वविद्यालय परिसर में कोई ठोस सुरक्षा व्यवस्था देखने को नहीं मिलती. इसी तरह से छात्र नेता राजदीप विकल ने कहा कि यहां स्टूडेंट को सुरक्षा मांगने पर केस दर्ज कर दिए जाते हैं. उन्होंने हवाला देते हुए कहा कि स्टूडेंट लीडर शान मोहम्मद और अक्षय बैसला का घटना से संबंध नहीं है. लेकिन उसके बावजूद भी उनके नाम मुकदमा दर्ज हो गया है. इसी तरह से अन्य स्टूडेंट लीडर ने भी कहा कि जल्द से जल्द अगर सुरक्षा व्यवस्था को बेहतर और निर्दोष छात्रों से मुकदमे वापस नहीं हुए तो विश्वविद्यालय में एक बड़ा आंदोलन किया जाएगा.

कुछ ही घंटों में फेल हुआ विशेष चेकिंग अभियान
विश्वविद्यालय द्वारा घटना को देखते हुए शनिवार सुबह मुख्य द्वार पर पुलिस प्रशासन के साथ मिलकर विशेष चेकिंग अभियान चलाया गया. जिसमें बिना आई कार्ड किसी को भी प्रवेश नहीं दिया गया. लेकिन यह चेकिंग व्यवस्था कुछ ही घंटे तक सीमित रही. दोपहरबाद चेकिंग नाम की कोई भी व्यवस्था देखने को नहीं मिली. जिससे छात्रों में भी रोष है. छात्रों ने कहा की सुरक्षा व्यवस्था दिखावें तक सीमित ना हो इसकी एक पूरी रूपरेखा बनाई जाए. जिससे भविष्य में इस तरह की घटनाएं न हो.

फर्जी मुकदमों से मिलेगी छात्रों को राहत?
विश्वविद्यालय के चीफ प्रॉक्टर प्रो. वीरपाल सिंह ने लोकल-18 से खास बातचीत करते हुए बताया कि छात्रों की सुरक्षा विश्वविद्यालय की प्राथमिकता है. ऐसे में जो खामियां हैं उन्हें दूर किया जाएगा. साथ ही उन्होंने कहा कि अगर किसी भी स्टूडेंट पर फर्जी मुकदमा दर्ज किया गया होगा. तो विश्वविद्यालय द्वारा इसका संज्ञान लेते हुए पुलिस प्रशासन से बातचीत की जाएगी. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि आई कार्ड की चेकिंग को लेकर अब इसी तरह की व्यवस्था रहेगी. जिससे कि जो बाहरी लोग यहां आते हैं. उनकी रोकथाम हो सके.

पुलिस ने की कठोर कार्रवाई
बताते चलें कि शुक्रवार को दो छात्रगुट में कहासुनी हो गई थी. जिसके बाद स्टूडेंट द्वारा फायरिंग भी कर दी गई थी. इससे कैंपस में अफरा-तफरी मच गई थी. हालांकि पुलिस प्रशासन द्वारा घटना में शामिल लोगों पर कठोर कार्रवाई करते हुए मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया.