दीवार पर सुसाइड नोट लिखकर युवक ने फांसी लगाई

Lucknow

(www.arya-tv.com) कृष्णानगर के भोलाखेड़ा में संजय पाल (30) ने घर की दीवारों पर सुसाइड नोट लिखकर फांसी लगा ली। इसमें उसने अपनी मां, तीन बहनों व भांजों पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। रविवार सुबह पड़ोसियों ने दीवार पर सुसाइड नोट लिखा देख परिवारीजनों व पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने कमरे का दरवाजा तोड़ा तो संजय का शव पंखे से दुपट्टे के सहारे लटका था। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेजकर जांच शुरू कर दी है।

इंस्पेक्टर कृष्णानगर डीके उपाध्याय ने बताया कि भोलाखेड़ा निवासी गुरु प्रसाद पाल के परिवार में बेटे संजय पाल, जितेन्द्र व तीन बेटियां मंजू, सुमन और सरिता हैं। गुरु प्रसाद बेटे जितेन्द्र व बेटी सरिता के साथ भोपाल में रहते हैं। यहां उनका बड़ा बेटा संजय पाल पत्नी रेखा के साथ मकान के प्रथम तल पर रहता है। उसकी बड़ी बहन मंजू पाल अपने दो बेटों के साथ पिता के इसी मकान के ग्राउंड फ्लोर पर रहती है। पुलिस के मुताबिक शनिवार देर रात संजय ने फांसी लगा ली।

मार्कर से दीवार पर लिखा सुसाइड नोट

अपनी जीवन लीला समाप्त करने से पहले संजय ने घर की दीवार, पिलर व श्रृंगारदान के आईने पर मार्कर पेन से सुसाइड नोट लिखा। इसमें उसने अपनी मां, तीन बहनों व भांजों पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। पड़ोसियों से मिली जानकारी के मुताबिक संजय की शादी दो वर्ष पूर्व तेलीबाग निवासी रेखा पाल के साथ हुई थी। रेखा का कहना है कि संजय भोपाल के एक होटल में नौकरी करता था। जनवरी में वह पति के साथ लखनऊ आई थी और फिर लॉकडाउन होने से यहीं रह रहे थे।

दहेज में पांच लाख रुपये मांगने का आरोप

रेखा का कहना है कि ससुरालीजन दहेज की मांग पर उसे प्रताड़ित कर रहे थे। इससे वह और पति संजय बहुत परेशान रहते थे। संजय की तीनों बहनें लखनऊ में मकान बनाने के लिए पांच लाख रुपये अपने ससुराल से मांगने को लेकर दबाव बना रहे थे। इसी तनाव में संजय ने खुदकुशी कर ली। रेखा ने ससुरालीजनों के खिलाफ तहरीर दी है। पुलिस रिपोर्ट दर्ज करने से पहले मामले की जांच कर रही है।