अखिलेश ने कार्यकर्ताओं के साथ फूलों से खेली होली, बोले- CM रहते ये योगी की आखिरी होली

Lucknow UP

(www.arya-tv.com)समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोमवार को अपने पैतृक घर इटावा के सैफई में होली मनाई। यहां होली खेलने के लिए मंच बनाया गया। जहां प्राचीन परंपरा के रंग देखने को मिले। ढोल-नगाड़ों पर फाग गीत गाए गए, लोगों ने नृत्य-संगीत का आनंद लिया। अखिलेश यादव ने कार्यकर्ताओं और परिवार के साथ फूलों की होली खेली। हालांकि इस कार्यक्रम से अखिलेश के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने दूरी बनाकर रखी।

अखिलेश ने इस मौके पर अपने अंदाज में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तंज कसा। कहा कि बुरा न मानो होली है। यह योगीजी की मुख्यमंत्री रहते हुए आखिरी होली है। अगले साल प्रदेश की जनता को नई सरकार के साथ होली मनाने का मौका मिलेगा।

शेर पले-बढ़े यहां, योगी ले गए अपने वहां

अखिलेश यादव ने कहा कि बुरा न मानो होली है। लेकिन फिर भी ये बात कहनी चाहिए कि जितना भेदभाव भाजपा सरकार में हो रहा है, उतना कभी किसी की सरकार में नहीं हुआ। इसके कई उदाहरण हैं, एक उदाहरण नहीं जहां हम ये नहीं कह सकते हैं कि भेदभाव नहीं हुआ है। शेर पले बढ़े यहां पर, लाइन सफारी शुरू होनी चाहिए थी। लाइन सफारी इसलिए नहीं शुरु हुई क्योंकि इससे देश ही दुनिया का आकर्षण इटावा की तरफ बढ़ेगा। टूरिस्ट बढ़ेगा। इससे किसी न किसी को रोजगार मिलेगा। लेकिन सरकार जानबूझकर इटावा व समाजवादी कार्यक्रमों से भेदभाव कर रही है।

जनता सिखाएगी सबक

अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार ने सपा सरकार की योजनाओं में लेटलतीफी की। पहले तो हमारी योजनाओं को अपना बताकर उनका उद्घाटन किया गया। अब तो पटिया भी बदला जा रहा है। आने वाले सरकार में प्रदेश को नई सरकार के साथ होली मनाने का मौका मिलेगा। जनता तैयार है। पंचायत चुनाव में भाजपा को जनता सबक सिखाएगी। जनता को यह आशंका है कि कहीं सरकार में भाजपा बेइमानी पर न उतर आए। धान, मक्का की खरीद नहीं पाए। आलू के रखने की व्यवस्था नहीं है।

शिवपाल ने अलग मनाई होली

उधर, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने सैफई के एसएस मेमोरियल कॉलेज में अपने कार्यकर्ताओं के साथ होली खेली। इस संबंध में जब अखिलेश यादव से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वे कहीं और होली खेल रहेंगे। इतना जवाब देकर वे बचते नजर आए।